GO
en-US|hi-IN

Text/HTML

 

श्री प्रमोद अग्रवाल, सीएमडी, कोल इंडिया लिमिटेड - एक संक्षिप्त परिचय

Shri Pramod Agrawal

भारतीय प्रशासनिक सेवा, 1991 बैच के मध्यप्रदेश कैडर के अधिकारी श्री प्रमोद अग्रवाल ने 01 फरवरी, 2020 को विश्व की सबसे बड़ी कोयला उत्पादक कंपनी, कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) के अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किया । इस वृहद महारत्न कोयला खनन कंपनी के प्रमुख की जिम्मेदारी संभालने से पहले, वे मध्य प्रदेश सरकार के तकनीकी शिक्षा विभाग, कौशल विकास और रोजगार विभाग तथा श्रम विभाग के प्रधान सचिव थे ।

31 जनवरी, 2020 को श्री अनिल कुमार झा के सेवानिवृत्ति के उपरांत श्री अग्रवाल ने पदभार ग्रहण किया ।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), मुंबई (1986) से सिविल इंजीनियरिंग में स्नातक श्री अग्रवाल ने आईआईटी, दिल्ली (1988) से डिजाइन इंजीनियरिंग (एम.टेक) में स्नाकोत्तर किया है।

देश के सम्पूर्ण कोयला उत्पादन का 83% उत्पादन करने वाली कंपनी का प्रभार संभालने पर, श्री अग्रवाल ने अपनी प्राथमिकता को रेखांकित किया, जिसमें उन्होंने “बदलते परिदृश्य में कोल इंडिया को प्रतिस्पर्धी, आर्थिक रूप से व्यवहार्य व्यवसाय इकाई बनाने के लिए, परिचालन दक्षता को बढाने और उत्पादन की लागत को कम करने पर अधिक जोर दिया । यथासंभव उच्च कोयला उत्पादन के साथ कोयला आयात में कमी की जाएगी ।”

श्री अग्रवाल ने अपने आईएएस करियर की शुरुआत मध्य प्रदेश सरकार के जिला ग्रामीण विकास एजेंसी के मुख्य कार्यपालक अधिकारी के रूप में की । श्री अग्रवाल के पास लोक प्रशासन के विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने का 28 साल का प्रशासनिक कौशल है, उन्होंने मध्यप्रदेश सरकार में शहरी विकास और आवास विभाग, सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभाग, लोक निर्माण विभाग एवं परिवहन विभाग में प्रधान सचिव के रूप में कार्य किया । वे मध्य प्रदेश वित्त निगम के प्रबंध निदेशक भी रहे हैं । उन्होंने मध्य प्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अध्यक्ष-सह-प्रबंध निदेशक और मध्य प्रदेश ग्रामीण विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं दी है । वे मध्य प्रदेश के मुरैना और महासमंद जिले के कलेक्टर भी रहे हैं ।

श्री अग्रवाल समृद्ध प्रबंधकीय अनुभव के साथ कोल इंडिया लिमिटेड से जुड़े हैं । उन्होंने संयुक्त सचिव के रुप में विनिवेश विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार और निदेशक के रूप में भारत सरकार के युवा मामले और खेल मंत्रालय में भी कार्य किया ।

श्री अग्रवाल ने ड्यूक विश्वविद्यालय, रैले, यूएसए से प्रोजेक्ट अप्रेजल एंड रिस्क मैनेजमेंट, आईएलओटीसी ट्यूरिन से मैनेजमेंट ऑफ टेकनिकल को-ऑपरेशन प्रोजेक्ट्स; आईआईएम, अहमदाबाद से इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट एंड फाइनेंसिंग प्रोग्राम; आईआईएम, बैंगलोर से इन्फ्रास्ट्रक्चर प्लानिंग एंड मैनेजमेंट; रॉयल मेलबोर्न इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मेलबर्न से स्टडी ऑन रोड मैनेजमेंट पॉलिसीज एंड प्रेक्टिसेज, में व्यावसायिक प्रशिक्षण प्राप्त किया है ।

श्री अग्रवाल को कई पत्र प्रकाशन का श्रेय हासिल हैं जैसे "मध्य प्रदेश में ग्रामीण सड़क परियोजना को लागू करना" और "मध्य प्रदेश में पीएमजीएसवाई के तहत खरीद सुधार"।

श्री अग्रवाल, पीएमजीएसवाई परियोजना के लिए किए गए असाधारण कार्यों के लिए "आवास और शहरी विकास निगम (हुडको) द्वारा इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट अवार्ड", "मुरैना जिले के कलेक्टर के रूप में काम करते हुए मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार के लिए रेड क्रॉस स्पेशल अवार्ड" के प्राप्तकर्ता हैं।