मंगलवार 17 सितम्बर 2019                   आज का शब्द – AUTHORISED | प्राधिकृत
GO
en-US|hi-IN

त्वरित लिंक

 

श्री भरतभाई लक्ष्मणभाई गाजीपारा, स्वतंत्र निदेशकका संक्षिप्त विवरण


श्री भरतभाई लक्ष्मणभाई गाजीपारा

श्री लक्ष्मणभाई गाजीपारा को 22 सितंबर, 2017 को सीआईएल बोर्ड में स्वतंत्र निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया। उनका जन्म 13 मार्च, 1958 को हुआ है । वे वाणिज्य और विधि में स्नातक किये है। उनका बार काउंसिल के नेता के रूप में बहुत बड़ा योगदान है। उन्होंने 1981 से 1991 तक जूनागढ़ में जिला बार एसोसिएशन के सचिव के रूप में काम किया । वे 2000 से 2001 तक गुजरात में बार कौंसिल के सदस्य बने। वे 2001 से 2003 तक गुजरात के बार कौंसिल के उपाध्यक्ष और2006 से 2008तक अध्यक्ष रहे । उन्होंने 30 वर्षों तक पंचायती राज के लिए योगदान दिया है। वर्तमान में वे 2010 से अखिल भारतीय पंचायत परिषद में कार्यकारी सभापति तथा 2005 से अखिल भारतीय पंचायत परिषद में महासचिव के रूप में कार्य कर रहे हैं ।उन्होंने 1995 से 2000 तथा 2005 से आज तक गुजरात प्रदेश पंचायत परिषद, गांधीनगर में मानद सचिव के रूप में काम किया । उन्होंने 1995 से 2000 तक जिला पंचायत, जूनागढ़ में सभापति के रूप में काम किया और 1983 से 1988 तक जिला पंचायत, जूनागढ़ में सदस्य रहे। एक शिक्षाविद के रूप में, वे 2008 से लेकर आज तक राज्य स्तर के प्रशासनिक बोर्ड में उप-सभापति हैं। वे 1996 से 2000 तक सौराष्ट विश्वविद्यालय के सीनेट सदस्य थे । उन्होंने गुजरात प्रदेश पंचायत परिषद, गांधीनगर में साप्ताहिक बैठक में एक कानूनी सलाहकार के रूप में काम किया है।वे "पंचायती राज" पुस्तिका (गुजराती भाषा में प्रकाशित मासिक) के संपादक के रूप में भी काम कर रहे हैं, इसकी नियमित क्षेत्र जैसे कानूनी मुद्दे पर प्रश्न और उत्तर; नई सरकार की योजनाओं की घोषणा,पीआर संस्थानों के माध्यम से ग्रामीण विकास कार्यक्रमों की सफलता की कहानी को प्रकाशित करना है। पत्रिका को सभी ग्राम पंचायत, तालुका और जिला पंचायत मेंनिःशुल्क आपूर्ति की जाती है। यह पिछले 39 वर्षों से जानकारी के प्रसार और विचार के आदान-प्रदान के लिए एक बहुत ही उपयोगी उपकरण सिद्ध हुआ है।